/मन की लिखूं
मन की लिखूं

मन की लिखूं



मन की लिखूं



मन की लिखूं तो शब्द रूठ जाते है
और सच लिखूं तो अपने रूठ जाते है !