/मनुष्य अपने विश्वाश

मनुष्य अपने विश्वाश





मनुष्य अपने विश्वाश से निर्मित होता है,
जैसा वह विश्वाश करता है,
वैसा वह बन जाता है।